Sunday, August 18, 2013

ऑटो वाला नहीं मिला
चंडीगढ़ आये हुए मुझे लगभग सवा महीना हो गया है। इस बीच तीन बार दिल्ली हो आया हूं। इस बात से कई मित्रों को आश्चर्यजनक खुशी हुई, कुछको अखरा कि मैं उनसे नहीं मिल पाया और कई लोगों को कुढऩ भी कि वाह भई ये तो बार-बार आ रहे हैं। ये कैसी नौकरी है। पर इन सबसे इतर इस बार 15 अगस्त के मौके पर दिल्ली गया था। हमारी सोसायटी में ध्वजारोहण समारोह हुआ। साहिबाबाद विधानसभा के वसुंधरा क्षेत्र में मेरा घर है। वहां से बसपा विधायक अमरपाल शर्मा मुख्य अतिथि थे। अन्य कार्यक्रमों की ही तरह माइक संभालने का जिम्मा मुझे दिया गया। जैसा भी बोल सकता था मैंने बोला। विधायक जी आये। जैसा कि होता है। सत्ता के गलियारे के लोग बहुत व्यस्त होते हैं। खैर वे नियत समय पर आये, ध्वजारोहण, पौधारोपण किया और चले गये। कई अन्य कार्यक्रम भी हुए। इस बार मुझे जो बात अब तक सालती रही, वह यह कि मैं रहा तो तीन दिन दिल्ली में, लेकिन अपने परिवार के साथ मिलबैठकर बमुश्किल दो घंटे बातें की होंगी। एक दिन अभिनेता शाहरुख खान के साथ बातचीत के असाइनमेंट में बीत गया। एक दिन अपने जरूरी कामों को निपटाने में और एक दिन पहले पंद्रह अगस्त के कार्यक्रम फिर एक छोटी फिल्म लेवल की शूटिंग में बीत गया। खैर अब चंडीगढ़ वापस आ गया हूं। यहां दैनिक ट्रिब्यून के रीलांच की तैयारी जोरों पर है। चूंकि बातें अभी ऑफ दि रिकार्ड हैं, इसलिए सारा खुलासा नहीं कर सकता, लेकिन यकीनन आने वाले नये सप्लीमेंट और अखबार का कलेवर और तेवर जुदा होगा। लोगों को पसंद आयेगा।
चंडीगढ़ की बातों के बारे में अभी मैं इसलिए कुछ नहीं लिख पाऊंगा कि मुझसे ज्यादा और लोग जानते हैं। यहां आने के करीब आठ दिन बाद मैं पहली बार दिल्ली पहुंचा तो मेरे बेटे ने पूछा जो अभी पांचवी कक्षा में है, पापा सुखना लेक देखी, मैं दंग रह गया। नाम भी नहीं सुना था। मैंने कहा नहीं। तुम मुझे चंडीगढ़ की खास जगहों के बारे में बताओ अबकी देखूंगा, हालांकि वह संभव नहीं है अभ तत्काल। यहां हरियाली बहुत अच्छी है। यहां कहीं अवैध निर्माण नहीं दिखता। लेकिन कुछ लोगों के व्यवहार ने दुखी किया। शायद भांप जाते हैं कि बाहर का है।
लेकिन इन सबसे अलग एक ऑटो वाले का व्यवहार आश्चर्यजनक लगा। जहां मैंने किराये पर घर लिया है, वहां से ऑफिस आने तक ऑटो का किराया दस रुपया है। एक दिन मैंने ऑटो लिया और बैठते ही कह दिया भाई सौ का नोट है आज खुला नहीं है। उसने बैठने का इशारा किया। रास्ते में दो तीन महिलाएं भी बैठीं। ट्रिब्यून चौक पर उतरकर मैंने सौ का नोट दिया। उसने सवाल किया खुले नहीं हैं। मैंने कहा, बैठते ही बता दिया था। हां बता तो दिया था। वह बोला। मैंने पीछे बैठी महिलाओं से कहा, आप लोग इसे किराया दे दें तो यह लौटा देगा। एक महिला बोली, हमने दे दिये हैं। क्योंकि इस बीच मैं खुला कराने एक दुकान के पास गया था, शायद उन्होंने तीस रुपये दे दिये थे। खुले नहीं मिले। ऑटो वाले ने कहा, चलो फिर दे देना। मैंने बताया भाई यही मेरा ऑफिस है। मैं रात को लगभग नौ बजे निकलता हूं। तब से आज तक वह ऑटो वाला मुझे नहीं मिला। यह किस्सा मैंने आफिस में भी बताया, कुछ को विश्वास हुआ कुछ को नहीं। ट्रिब्यून में आते ही लिखना पढऩा तेज किया है। दो-तीन किताबों की समीक्षा भी की है जो छपी है। एक मित्र ने ब्लाग भी रेगुलर लिखने के लिए कहा है। पूरी कोशिश है। अब निजी किस्से कहानियां कम कुछ रचनात्मकता वाले लेख लिखूंगा। आज इतना ही।
नमस्कार

No comments: